...etc (Mini-Blog)

Random thoughts...



मोबाइल फ़ोन - छठी इन्द्रिय

posted Dec 17, 2017, 3:38 PM by Abhishek Ojha


तीन छोटी घटनाएं जो फ़ोन के साथ न होने से घटित हुई और बहुत अच्छा सा लगा !  - 

पिछले दिनों हम मेक्सिको में थे. मेरा फ़ोन न इस्तेमाल करने का कोई नियम तो नहीं है पर अक्सर हम फ़ोन घर पर ही छोड़ कर बाहर चले जाते हैं. और वीकेंड पर भी फ़ोन से एक दूरी बनी रहती है. ऑफिस में रहने का समय ही ऐसा होता है जब फ़ोन बगल में पड़ा होता है. लंच के लिए भी जाते समय फ़ोन कई बार डेस्क पर छूट जाता है. पर मैं घड़ी जरूर पहनता हूँ. आदत है. पर इस यात्रा पर ... घड़ी भी नहीं थी. मेरी पसंदीदा 'सून्तो' घडी का फीता टूटा हुआ था और दूसरी घड़ियाँ  'फॉर्मल' सी हैं.  इस यात्रा पर ऐसा हुआ कि फ़ोन होटल में ही पड़ा रहता और हम बेफिक्र घूमते. अगर कहूं कि समय का अंदाजा लगता दिन में सूरज देखकर और रात में तीन दंडीयाँवाँ  देखकर तो अतिश्योक्ति नहीं होगी. (तीन दंडीयाँवाँ - अर्थात तीन तारे जो एक सीध में होते हैं, और सप्तर्षि, ध्रुव तारा हम बचपन में छत पर लेटकर खूब देखते, होटल के बीच  पर रात में भी कुर्सियां पड़ी रहती तो बहुत दिनों के बाद ये भी देखा. साफ़ रात हो तो आँखें ऊपर जरूर उठ जाती हैं और दिमाग अपने हिसाब से दिशा और समय का अंदाजा लगाने लगता है). मुझे याद नहीं इससे पहले मैंने कब किसी से समय पूछा होगा... सालों बाद या शायद पहली बार किसी से पूछा - क्या समय हो रहा है. एक द्वीप से वापस आने के लिए फेरी के समय का ध्यान रखना था.  मुझे याद है बचपन में ये आम बात हुआ करती. लोग आते जाते लोगों  से समय पूछा करते. रेडिओ से घड़ियाँ मिलाई जाती. चाभी देने वाली घड़ियाँ होती (मेरे पास अब भी है) ! बिन फ़ोन, घडी बिना ये पूछना सुखद था.  क्यों? - पता नहीं ! 

एक दिन ऑफिस में एक मीटिंग के लिए एक कांफ्रेंस रूम में हम पांच लोग थे. लन्दन के ऑफिस से कुछ और लोगों कोआना था मीटिंग में लेकिन डायल करने के लिए मीटिंग की आईडी चाहिए थी. मीटिंग शुरू हुई तो पता चला हममें से पाँचों लोग अपने फ़ोन अपने डेस्क पर छोड़ आये थे ! जब ये पता चला तो कोई एक उठ कर गया अपना फ़ोन लाने. पता नहीं लोगों को कैसा लगा पर मुझे बहुत अच्छा लगा. अब भी बिना फ़ोन के लोग कुछ मिनट जिन्दा रह लेते हैं !  और आज के समय में क्या प्रोबेबिलिटी है जी कि बिना अपना फ़ोन लिए पांच लोग मीटिंग में आ जाएँ? ! 

तीसरी घटना... मेक्सिको में ही 'चिचेन इत्ज़ा' जाने के लिए हमने होटल से गाडी ली थी जिसमें कुछ और लोग थे. मैंने देखा पूरे रास्ते केवल हम थे जिन्होंने हर १० मिनट बाद फेसबुक नहीं खोला होगा. मुझे लगा पिछले चार सालों में अगर जोड़ने बैठ जाऊं तो कितने महीने हों जायेंगे जो फेसबुक पर नहीं होने से मैंने वैसे जीया जैसे जीना चाहिए. वो समय वहां गया जहाँ उसे जाना चाहिए. कितना कुछ अपने इन्द्रियों से महसूस किया फ़ोन से नहीं ! मेरी कोई इच्छा नहीं होती अब फेसबुक पर वापस आने की. लोगों को फेसबुक स्क्रॉल करते देख गर्व सा होता है. हम एक नशे से बचे हुए हैं. चार साल से अधिक हो गए और वो जैसे भी हुआ हो... बहुत अच्छा हुआ !  हाल में ही एक इटालियन फिल्म देखा था - परफेक्ट स्ट्रेंजर्स ! उसके बाद तो लगा फ़ोन दैत्य ही है !  खैर बाबा बनने का कोई इरादा नहीं है पर आप ये पढ़ रहे हैं तो कहूँगा कि फ़ोन को अपनी छठी इन्द्रिय मत बनाइये. जो इन्द्रियाँ हैं उनका भी इस्तेमाल कीजिये. दुनिया बेहतर दिखती है. समझ भी आती है. जो अपनी छुट्टियों का आँखों देखा हाल इन्स्टाग्राम किये जा रहे हैं यकीं मानिए उनकी छुट्टियां बस इन्स्टाग्राम पर ही परफेक्ट हैं !   

पर हाँ मेरे ब्लॉग अगर आप फ़ोन पर पढ़ते हैं तो वो बंद मत कीजियेगा :) :) 


...the theory is correct !

posted Dec 6, 2017, 2:10 PM by Abhishek Ojha



I am reading Elegant Universe - a beautiful book. Here is a paragraph from the book describing when Einstein's theory was confirmed by experiments. - 

[Dutch Physicist Hendrik Lorentz sent Einstein a telegram informing him of the good news. As word of the telegram 's confirmation of general relativity spread, a student asked Einstein about what he would have thought if Eddington's experiment had not found the predicted bending of starlight. Einstein replied, "Then I would have been sorry for the dear Lord, for the theory is correct."

Of course, had experiments truly failed to confirm Einstein's predictions, the theory would not be correct and general relativity would not have become a pillar of modern physics. But what Einstein meant is that general relativity describes gravity with such a deep inner elegance, with such simple yet powerful ideas, that he found it hard to imagine that nature could pass it by. General relativity, in Einstein's view, was almost too beautiful to be wrong.]

People may call it Einstein's arrogance.. but if you have been through something beautiful... coherent, logical, symmetrical, truth - you know what he meant. Something so logical.. so pure. Like when you are in love.. and You don't give a damn about what anyone thinks about your feelings. Not even god, not even the person you love ! You just know that it can not be wrong. You just know it ! You know it when you have done everything perfectly and beautifully. I remember someone told me once something about Grah, Nakshatra etc. and I said - mere chakkar mein barbaad ho jaayenge grah, nakshatra. Solar system collapse ho jaayega. kaho apne kaam se kaam rakhein.

I wish you have lived that feeling. Not of inventing Relativity :P :D but something very simple but purely beautiful - a deep inner elegance ! 

Physics is mystical !

posted Nov 25, 2017, 4:51 PM by Abhishek Ojha   [ updated Nov 25, 2017, 4:51 PM ]

Physics is mystical. I am sure it is mystical for those who actually derive the equations but it is also for those who don't want to go into those details... outside the exams and textbooks the 'physics in words’. 'Elegant Universe’ is an amazing book in that sense, halfway through the book and I am already searching for similar books… 

“In 1965, Richard Feynman, one of the greatest practitioners of quantum mechanics, wrote, There was a time when the newspapers said that only twelve men understood the theory of relativity. I do not believe there ever was such a time. There might have been a time when only one man did because he was the only guy who caught on, before he wrote his paper. But after people read the paper a lot of people understood the theory of relativity in one way or other, certainly more than twelve. On the other hand I think I can safely say that nobody understands quantum mechanics.

Although Feynman expressed this view more than three decades ago, it applies equally well today. What he meant is that although the special and general theories of relativity require a drastic revision of previous ways of seeing the world, when one fully accepts the basic principles underlying them, the new and unfamiliar implications for space and time follow directly from careful logical reasoning. [….] Quantum mechanics is different. By 1928 or so, many of the mathematical formulas and rules of quantum mechanics had been put in place and, ever since, it has been used to make the most precise and successful numerical predictions in the history of science. But in a real sense those who use quantum mechanics find themselves following rules and formulas laid down by the "founding fathers" of the theory—“calculational procedures that are straightforward to carry out—without really understanding why the procedures work or what they really mean. Unlike relativity, few if any people ever grasp quantum mechanics at a "soulful" level.

What are we to make of this? Does it mean that on a microscopic level the universe operates in ways so obscure and unfamiliar that the human mind, evolved over eons to cope with phenomena on familiar everyday scales, is unable to fully grasp "what really goes on"? Or, might it be that through historical accident physicists have constructed an extremely awkward formulation of quantum mechanics that, although quantitatively successful, obfuscates the true nature of reality? No one knows. Maybe some time in the future some clever person will see clear to a new formulation that will fully reveal the "whys" and the "whats" of quantum.

[…]“At this point your classical upbringing is balking: How can one electron simultaneously take different paths—and no less than an infinite number of them? This seems like a defensible objection, but quantum mechanics—the physics of our world—requires that you hold such pedestrian complaints in abeyance. The result of calculations using Feynman's approach agree with those of the wave function method, which agree with experiments. You must allow nature to dictate what is and what is not sensible. As Feynman once wrote, "[Quantum mechanics] describes nature as absurd from the point of view of common sense. And it fully agrees with experiment. So I hope you can accept nature as She is—absurd."

[…] “Niels Bohr, one of the central pioneers of quantum theory and one of its strongest proponents, once remarked that if you do not get dizzy sometimes when you think about quantum mechanics, then you have not really understood it.”

Excerpts From: Brian Greene. “The Elegant Universe.”


Brilliant !

posted Oct 30, 2017, 1:09 PM by Abhishek Ojha

One of the best books I have ever read. If you are reading this, buy and read 'Sometimes Brilliant'  The Impossible Adventure of a Spiritual Seeker and Visionary Physician Who Helped Conquer the Worst Disease in History by Larry Brilliant. The book is inspiring, simple, fabulous, a true story and at the same time too good to be reality  - stranger than fiction ! I cannot recommend it highly enough. Read it.

NORA

posted Oct 24, 2017, 1:56 PM by Abhishek Ojha

I came across this term in a conference. NORA or Non-obvious relationship awareness. It has been around for sometime, a less known but related to the buzz words of our age - data mining, machine learning, pattern recognition, big data and so on. NORA, as the name suggests, determines relationships that are not obvious. Technical part of that is boring - some unsupervised learning algorithms (data mining) and you get to see some patterns and relationships in data which are not obvious otherwise. ...but interesting is this concept of non-obvious relationships beyond data and tech.

 Awareness of what is non-obvious is sometimes more important than obvious. Like our irrational parts... sometimes they shape us more than we know. How much are we aware of our NORs? Things, places, relationships, incidents... seems like not much! 

Things that are quantifiable are easier to understand!

जीवन

posted Dec 17, 2016, 12:44 PM by Abhishek Ojha   [ updated Dec 17, 2016, 12:49 PM ]


अगर हमारे आस पास कुछ सबसे खूबसूरत है जिसे हम देख कर भी नहीं देखते वो है - जीवन ! रहस्यमयी रूप से अतिशय खूबसूरत। 

अजीब है कि हम दूसरे ग्रहों, गैलक्सी पर जीवन होगा या नहीं, होगा तो कैसा होगा वगैरह सोचते रहते है. और तब भी सिर्फ यही सोचते हैं कि वो हमसे ज्यादा विकसित होंगे या नहीं। उनके दो पैर, दो आँखें होंगी या नहीं। हम ये शायद ही कभी सोचते हैं कि धरती पर ही जीवन इंसानों से बहुत आगे, बहुत विविध और खूबसूरत है. हम कभी सोचते हैं कि पौधे ,जानवर,धरती पर, समुद्र में जो जीवन है... वो भी चतुर और समझदार जीवन है? माइक्रोऑर्गेनिज्म छोड़ दें तो भी कितने जीव, कितनी विविधता - अद्भुत सहयोग और संतुलन। जैसे हम अपने अंदर देखने की वजाय बाहर देखते हैं वैसा ही कुछ है. अपने महासागरों के अंदर कितना जीवन है उससे ज्यादा हम सौरमंडल के अन्य ग्रहों के बारे में जानते हैं. दार्शनिक होने जैसी बात नहीं है - बहुत साधारण सी बात है. इतनी सी बात है. इतनी सी की हमें दिखती ही नहीं। नजर घुमा के हम देखते ही नहीं। हाल में मैंने दो चीजें देखी - अंडर वाटर दुनिया और  रेन फारेस्ट। और फिर... पहले तो आई कैंट गेट एनफ ऑफ़ इट  फिर आई कैंट गेट ओवर इट जैसी बात हुई. मुझे नहीं लगता मैंने इससे ज्यादा खूबसूरत कुछ देखा है. वैसे कुछ दिनों में ये खुमारी भी उतर ही जानी है. पर कुछ बातें ऐसा नशा होती है जिसे हम उतरने देना नहीं चाहते। वो लम्हें जिनमें हमें लगता है... मानो संसार, ब्रह्माण्ड, जीवन का ज्ञान क्या होता है उसका एक फ्लैश सा दिख गया हो और समझ न आया हो क्या था. समझने की कोशिश में और गायब हो गया हो. विरोधाभास के बीच तारतम्य की एक झलक दिख गयी हो. हम फिर से वो देख लेना चाहते हो, फिर से वो लम्हा जी लेना चाहते हो - उसका हैंगओवर बचा रह गया हो - वैसा कुछ. 

एक सूर्य से चलता जीवन क्रम। एक जीवन के भीतर कई जीवन - एक वृक्ष के अंदर पूरा संसार। वृक्ष की जड़ में ही एक पूरा संसार। एक कोरल रीफ और उसके आस पास ही पूरा संसार - विशाल संसार - खूबसूरत - महीन संतुलन - भंगुर संतुलन - अद्भुत। एक अलग ही संसार पर बिल्कुल वैसा ही संसार ! हर संसार का अलग नियम पर सब एक ही नियम से चलते हुए जैसा कुछ.  रंग-बिरंगे-नाचते-गाते-उड़ते-तैरते-चलते-जीते-मरते-मिटते-प्रेम करते-बुद्धिमता-अनगिनत जीव-जीवन क्रम। पूरी सृष्टि मानो समरूपता और एक महीन संतुलन के अलावा कुछ नहीं। कुछ अजब सा एहसास। अजीब सा ज्ञान। अजीब सी अनुभूति- जीवन भंगुर है - नगण्य - इन्सिग्नीफिकेंट - पर खूबसूरत है - बहुत खूबसूरत।



 

Use your brain or maybe...

posted Nov 18, 2016, 8:46 AM by Abhishek Ojha   [ updated Nov 18, 2016, 11:33 AM ]

(Posted on a WhatsApp group after observing few days of Monetization debate fight - )

What's wrong with you guys !

Why can't it be a bold step and problematic for many people at the same time?
Why can't something started with good motive can have problems or even fail?

Is it too difficult to understand that real things are much more complicated than just right or wrong, awesome or terrible, black or white, Modi or Kejri.

Why can't Modi do few good things? or Why can't Kejri do? or why can't they both fuck things up?

Bhai, itna defend karne ki jagah kuchh constructive kar lo. Nahin to chill maro. Enjoy karo. kaahe lage pade ho. Jaise tumhe koi stupid dikh raha hai tum waise hi dikhte ho usko. ...because of your suporrting or opposing one person blindly. Bhakts aur Tards ke beech dhaage bhar ka fark hota hai.

Why can't you guys accept things as it is?

Why it has to be only awesome or terrible? and deciding criteria of that is only political ideology?

Do you know how you sound? As if Kejri/Modi ko support/oppose karne ke alaawa brain ke saare wire infuse ho gaye hain.  Logic start hi hota hai ek framework ke saath ki Modi ko galat prove karna hai ya use sahi prove karna hai. Uske baad jo bhi situation ho ghuma phira ke - hence proved. Biased hona is fine lekin aisa bhi kya ki mission bana liye ho ki ideology ke against kuchh achcha dikhe to sad ho jao, disaster ho to sadistic pleasure. uske baad jee jaan se lag jao kaanw kaanw karne mein.

..and do you guys think your forwarded biased articles, flawed arguments and jokes will make people change their opinion? people will listen only when you learn to speak about both pros and cons. Some of you guys are termed Bhakts or Tards... not for no reason. There is significant trend in your thinking framework... and you always crib not based on logic but based on which side you are. You think people find it logical? No !  Most people find you a politically radicalized stupid. You just make similar illogical arguments everytime, not to analyze the situation but to defend a person.  .. and adding words like rational, practical or logical to your biased framework doesn't make it any better and believe me, you only make your opponents look much better than they actually are.

Things are not as simple as one ideology or another. Economists still can't agree on the causes and reforms of biggest problems of last century - what worked, what not is still debatable after hundreds of years. Aur aap log pahle se hi sab calculate kare baithe ho. Chill guys. Rather than searching and forwarding or writing what supports Modi or Kejri or opposes them. Use your brain or maybe even that won't help...  because when you start analyzing with a given conclusion, with a biased framework, what can you conclude? better would be if you learn your biasdness and start appending it to your logical messages as a disclaimer. :)

They are politicians, whats your excuse for stupidity, propaganda warriors? Chashma utaar ke dekho achchi dikhti hai dunia. Look at facts. An unbiased estimation of fact would be somewhere close to average of NDTV and Zee TV :) and chill dunia immediately end nahin ho rahi, na awesome hi ho ja rahi hai raaton raat. 

Mental obesity hai tummein se kuchh logon ko. kuchh constructive kaam mein lagao thodi slim n sexy hogi thinking :)

Venice

posted Nov 1, 2016, 1:36 PM by Abhishek Ojha   [ updated Nov 6, 2016, 2:49 PM ]

They say that Venice is a city like no other! .. and they don't say it for no reason. It indeed is a city like no other.  It is called Serenissima and it indeed is. A floating city that makes you wonder what humanity can achieve... and amazing that how did they made it hundreds of years ago. There are few things you need to witness to realize what it is – Venice is one of those things, no matter how many times you have seen it in pictures or videos.

 

The most preserved city in Europe, a city to get lost and wander... and with all the maps and apps you still get lost in Venetian Calles!  When in Venice, You wonder and enjoy everything about it (except cost). The city of canals, bridges, water taxis, masks, artisans, gondolas... It’s not a surprise that poets, artists, riches of the world always loved this city.

 

I am not writing to tell you what Venice is! Who doesn't know - Even if you haven't seen, you have heard of it.

 

Perhaps it is the only city in the world that has always been a place of wealthy people. Always ! City of the riches, for the riches and by the riches. City of wealthiest merchants - From the center of east-west trade route to super rich venetian empire to city of making money from religion during crusades to place of European super rich to casinos – the first Vegas of the world - to poets-artists-film stars to a finally major tourist hub. It never really witnessed a not-awesome day in history of its existence. Being an intermediator between east and west it was never really attacked and always made money by trade. City of palaces, colorful houses world’s richest city once. Wealth was always in abundance to this small island city-state-empire. Strategically located, intelligently built, enormously beautiful and always prosperous…

 

What else a city should have?

 

On the same note - What else a happy person should have in life? Kind of same things!

 

Any city on the planet will envy to have what Venice always had...

 

but... there is another side of story. Sad story. Elegantly sad.

 

I got a chance to talk to a Venetian.

 

She told me something totally opposite of this glory – “it is depressing, overloaded, rotten and slowly sinking city. You should be glad you don't live here! If you have to raise a kid here… can you imagine walking in this city with all those steps and bridges? Do you know how much it costs these days to live here? If you fall sick... water ambulance is no fun in reality. It is romantic if you see from outside but not at all if you live here. This is not a city, it’s a museum city, biggest museum in the world...  and museums are not for people to live. People celebrate not knowing that it is rotting and sinking each day... do you know that ground floors on canals are declared un-inhabitable now? St Marks square is flooded every another day. You are not even allowed to repair your homes in most part of the city. It is almost impossible to construct something new here. There are strict laws to preserve the city as it is. On top of it everything is so expensive. Do you know Venice has lowest resident population in its history? If you exclude tourists and business owners, most of venetians don’t live here anymore. All that flood of people you see everywhere ...no one is from here. All our neighbors left for another places - better places to live. This city is lonely with crowd and slowly dying. People say it becomes more beautiful as it decays... I don't know! Maybe that is what beauty is. It is wabi-sabi. It is elegant decay. It is sadly beautiful. Do you know what it all means? It has a charm.. it is beautiful.. no one can question that but maybe that’s not all what is needed in a city to live. It is serenissima only if you visit, enjoy and leave. Don't get deep into it... don’t let its sadness takeover you. as they say  - put down the map, get lost in it. Get yourself into the tourist traps. Ride the most beautiful and elegant form of transport humans ever innovated (which is also possibly most expensive per meter)! Rub shoulders with fellow tourists.. and leave before you get to see what I see every day !“ She kept going…

 

 

Have you ever met people like Venice? have you seen their other side? Grand-rich-successful-lovable-romantic-like no other-depressed-haseen dukh !.

 

I have seen human Venices… I saw too much analogy !

पुरानी किताबें

posted Sep 1, 2016, 7:09 PM by Abhishek Ojha   [ updated Sep 2, 2016, 7:51 AM ]


स्कूल के दिनों में एक बाजार लगता. (रांची में). अब भी लगता हो शायद। मुझे याद है क्योंकि एक बुड्ढा आदमी वहां किताबें बेचता था. हर मंगलवार को लगने वाले बाजार में वैसे तो सब्जी के अलावा भी बहुत कुछ बिकता पर किताब की अकेली 'दूकान' लगती. रद्दी में से खरीदी गयी किताबें. रादुगो प्रकाशन मास्को से लेकर १९२१ में छपी केमिस्ट्री की किताब. पचास साल पुरानी ट्रिगोनोमेट्री की किताब से लेकर रसियन फिजिक्स और कैलकुलस की किताबें. गोरखपुर विश्वविद्यालय के लाइब्रेरी का स्टैम्प लगी १९५२ की डिफ़रेंशियल कैलकुलस. २ रुपये में मधुशाला. ३ रुपये में अनाम दास का पोथा. कई किताबें सब्जी के भाव खरीदी हमने. वो पहला परिचय था पुरानी किताबों से. सिलेबस के बाहर और  'उस जमाने' में किताबे कैसी होती थी का शौक. पन्नों पर स्याही से लिखे नोट्स. किताब खरीदने की रशीद. सामान खरीदने की रशीद। पहले पन्ने पर 'सप्रेम'. मूल्य: पंद्रह पैसे ! 

कुछ किताबें जो ज्यादा खराब हो गयी होती उनका कवर और कुछ पन्ने हटा कर वो वृद्ध वैसे ही फ़ेंक देते जैसे किताब नहीं पत्ता गोभी हो ! 
उन्हें कुछ नहीं पता होता था उन किताबों में क्या होता.  ये भी नहीं पता होता कि कितने में कौन सी किताब बेचनी है. देखने में बाइंडिंग अच्छी हो और भारी भरकम हो तो महँगी. 

'इसमें तो कुछ नहीं है बस मोटी है किसी काम की नहीं'. 
'अच्छा ? ऐसा है? इतनी मोटी है ! अच्छा चलो ५ रूपये में ले लो.'
'नहीं... मेरे काम की नहीं है. मैंने ऐसे ही कहा.'
'सुनो सुनो ३ में ले लो.' 

उस कचरे में से चुन बहुत सी किताबें ले आते हम. 

कई सालों बाद.... एक युग बाद. 

कुरंट मैथेमेटिकल इंस्टिट्यूट, न्यू यॉर्क यूनिवर्सिटी के सामने सड़क पर थोड़ी थोड़ी दूर पर तीन-चार किताब की 'दुकाने' थी - सड़क की दुकाने। खाट पर लगी हुई. बाजार वाले 'दुकान' की तरह.. उनमें से एक दूकान पर रुक गया. एक वृद्ध दंपत्ति. एक पुरानी गाडी, चार फोल्ड होने वाले टेबल जिन पर किताबें रखी थी. वृद्ध किताबें चुन चुन कर उन्हें जिस टेबल पर होना चाहिए वहाँ रख रहे थे. वृद्धा पीछे कंक्रीट की बेंच पर बैठी थी. इस शहर में वृद्ध दंपत्ति कभी कभार ही दीखते हैं. ये बात सोची जाए तो कहा जा सकता है कि दीखते ही नहीं हैं ! शायद इसलिए वहाँ रुका क्योंकि वहां रखी बहुत सी किताबें मेरी पढ़ी हुई थी. बाकी ऐसी जिन्हें पढने के लिए सोच रखा है. उससे जो बची.. वो लगा मैंने नाम नहीं सुना पर अद्भुत किताब है. मुझे भरोसा नहीं हुआ कि ये बस ऐसे ही रख दी गयी हैं. हम किताबें पलटते रहे. मुझसे नहीं रहा गया. मैंने उनसे पूछा कि आप किताबें चुन चुन कर लाते हैं? ऐसा कैसे हो सकता है यहाँ हर किताब ही पढने लायक है? 

उन्होंने मुस्कुराते हुए धन्यवाद दिया और कहा - 'हम कोशिश करते हैं.' 
'आपने सब पढ़ी है?' 
'हम कोशिश करते हैं'.  उन्होंने फिर से वही जवाब दिया.

फिर किताबों की बात... किन्डल, किताबें संभाल कर रखना.. कैसे आते हैं, कहाँ रहते हैं. रोज आते हैं? वगैरह बातें हुई. 
'मौसम आने लायक हो तो आते हैं.' हम यहीं मिलते हैं. 

मैंने दो किताबें ली. चेखोव की एक ३ डॉलर में जिस पर कीमत छपा था १.४५ 
१०.९५ के गेब्रियल मर्क़ुएज़ मिले ५ में!

मैंने अपने आप से कहा - जब समझ नहीं आये अब कौन सी किताब पढनी है तो यहाँ आकर कोई भी किताब उठा लेना - सोचने का काम किसी ने पहले ही कर रखा है. 

एक किताब पलटते ही दिखा - पहले पन्ने पर लिखा बहुत प्यारा सन्देश। बहुत ही प्यारा। किसी ने बड़े प्यार से किसी को किताब दी होगी। पता नहीं कैसे किसी ने बेच दिया होगा उस किताब को ! पता नहीं कहाँ कहाँ होते हुए आज यहाँ पड़ी है. अब कहाँ जायेगी। देने वाले ने सोचा होगा कि एक दिन ऐसे यहाँ पड़ी होगी वो किताब ? सन्देश, नाम, दिनांक रह गये हैं. बाकी सब बदल गया शायद। दिमाग को शायद समझ नहीं आया कौन सी बात स्वीकारे- 'ऐसे किताबें बेच देने वाले दुनिया में बने रहे' या 'ऐसे कैसे लोग होते हैं जो किताबें बेच देते हैं'? वो सन्देश वाली किताब मैं ले नहीं पाया। 

थारे जैसा ना कोई !

posted Aug 21, 2016, 7:18 PM by Abhishek Ojha   [ updated Aug 22, 2016, 11:36 AM ]


नोकिया के पुराने फ़ोन वाला ‘स्नेक’ गेम याद है?


पहली बार जब वो बेमिशाल चीज, जिसे कंप्यूटर कहते हैं, देखा था? ‘डॉस’ ऑपरेटिंग सिस्टम वाला और पैक मैन?


जब जूते बाहर उतारकर कंप्यूटर रूम में जाना होता था? फ्लॉपी डिस्क जब तोप चीज हुआ करती ! वॉक-मैन फ्यूचर। स्नेक गेम लोगों को बर्बाद करता था - शायद पहला वायरल गेम. अब जिसने पहली बार लैंडलाइन फ़ोन के बाद नोकिया का वो फ़ोन देखा होगा उसने क्यों नहीं कहा होगा कि इससे अच्छा कुछ हो ही नहीं सकता। डॉस की काली-सफ़ेद स्क्रीन के बाद पहली बार जब किसी ने विंडोज देखा होगा? कैसा महसूस हुआ होगा उसे? क्यों न मर गया होगा वो उस पर. क्यों न वो वादा कर गया होगा अपने आप से कि जिंदगी में इससे अच्छा कुछ नहीं हो सकता ! जिंदगी से अब और कुछ नहीं चाहिये। - तुम जो मिल गए हो तो ये लगता है के जहाँ मिल गया है !


फिर… विंडोज एक्सपी, सेवन, टेन ! मैक, उबंटू…. मल्टी टच, आईफोन, आईपैड। विंडोज का पहला वर्जन देखकर पागल हो जाने वाले की क्या गलती अगर अब वो मैक के पीछे पागल है? नोकिया के स्नेक के पीछे कभी पागल रहे को अब ‘पोकेमॉन गो’ में जहाँ मिलने लग गया !


मेरे एक दोस्त के पिताजी, जिन्होंने हमेशा राजदूत चलाया था, पहली बार हीरो हौंडा स्प्लेंडर पर बैठने के बाद कहा था कि… 'आज मेरी उम्र दस साल कम हो गयी. क्या गाडी है !' मैं तब बच्चा था मैंने सोचा था - 'पहली बार लम्ब्रेटा चलाने वाले ने भी कभी ऐसा ही कहा होगा।' और सोचिये तो जरा क्या ज़माना रहा होगा अपनी गर्लफ्रेंड को जिसने लम्ब्रेटा पर बिठाया होगा... बैलगाड़ी के हीरो वाले जमाने में। इलाके में क्या हुआ होगा?


कितनी चीजों का हमें हद तक नशा हो जाता है. देख के लगता है ये है - भविष्य ! हम खुशकिस्मत हैं जो ये देखने को मिला. जीवन में इससे अच्छा लम्हा नहीं आ सकता.


पर… वहीँ कौन रुक जाता है? ‘ठहर जाए ये लम्हा’ कहने को तो हम कह देते हैं. अगर ठहर जाए तो कितने पल को हम झेल पाएंगे उस लम्हे को? लम्हों की निरंतरता , उसका बीतते जाना और फिर उसके बीत जाने के बाद की ‘नोस्टालजिया’ में हम जी लेते हैं. अगर वो लम्हा रुक गया होता तो बोझिल हो गया होता. दम घुट गया होता। खैर…. बात ये नहीं थी. बात ये थी कि पसंद, महसूस, भविष्य और वादे वगैरह- देश और काल (टाइम, स्पेस) के फंक्शन होते हैं. एक टाइम-स्पेस का ईमानदार वादा किसी और टाइम-स्पेस का बकवास बन जाता है, नहीं? जिसे हम कहते हैं - वक़्त बदलता है. सब कुछ बदल देता है. सब कुछ भर देता है. आपको भी और हमें भी? आपको डॉस, जूता पहन कर कंप्यूटर रूम में जाना, पैक-मैन और प्रिंस और पर्शिया खेलना याद आ रहा है? जीडब्ल्यू बेसिक? पहली मोटर साइकिल? फ़ोन? या… कुछ और वो जो कल का सबसे खूबसूरत लम्हा सच था जो आज नहीं है?


बाई द वे… लॉजिक अच्छा है पर… अगर आप वो सोच रहे हैं जो मैं सोच रहा हूँ कि आप ये पढ़ते हुए सोच रहे होंगे तो… ‘रिश्ते’ चीज नहीं होते। भावनाएं चीज नहीं होती. लोग चीज नहीं होते… संसार में वो सब कुछ जो ‘चीज’ नहीं है, वस्तु नहीं है - एवरीथिंग दैट इज नॉट अ थिंग - वनली दैट इज नॉट रीप्लैसबल। सृष्टि में हर वो बात जिसके लिए हम समझ नहीं पाते कि वो था क्या ! वो है क्या? उपयोग से परे, इस्तेमाल से परे… ज्ञान, प्यार, एसेंस, कालातीत। जिसे सोचते-सोचते कि - मैं क्या हूँ, तुम क्या हो - योगी कह जाते हैं - अहम् ब्रह्मास्मि ! उस हिस्से को छोड़ कर हर चीज का स्थान कुछ और लेता जाता है. अक्सर उससे बेहतर - कल और आएंगे नग़मों की खिलती कलियाँ चुनने वाले मुझसे बेहतर कहने वाले तुमसे बेहतर सुनने वाले। तुम रीप्लैसबल हो, हम भी हैं. पर हम-तुम में जो हम-तुम के परे था (है) वो रीप्लैसबल नहीं है. हम-तुम में जो ‘चीज’ है - डॉस जैसा - नोकिया के स्नेक जैसा - वो सच था अपने समय का - वो लम्हा सच था - वो नशा सच था - ये नशा भी सच है - आज का. 

 खैर… चलते रहना चाहिए. नहीं तो डॉस पर अटके रह जाएंगे हम सब. उड़ने पर ही दीखता है - बहुत बड़ा है यह संसारएक रास्ता है जिंदगी - जो थम गए तो कुछ नहीं !

 हरी ॐ तत्सत् !

:)

1-10 of 339